Sunday, 25 March 2018

इस बसंत


इस बसंत
----------

इस बसंत
तेरी याद
नरम गरम धूप सी
कभी सरसों के फूलों की
पीली नरम आंच सी
कभी पलाश के फूलों की
लाल दहकती आग सी 
---------------------------------