Friday, 12 May 2017

बुद्ध हो जाना


बुद्ध हो जाना 


अक्सर
कुछ ख्वाब 
जो तुम्हारे भीतर
जगते हैं हक़ीक़त की तरह 

फिर वे

होठों से
आग आग दहकते हैं
पलाश की तरह
बसंत बसंत खिलते हैं
अमलतास की तरह
प्यार प्यार महकते हैं
गुलाब की तरह
शब्द शब्द झरते हैं
हरसिंगार की तरह

फिर कोई 

ओक ओक पीता है 
अमृत की तरह 
स्वर स्वर सुनता है 
संगीत की तरह
आग आग जलता है 
परवाने की तरह  

फिर कोई 

तप तप निर्वाण पाता है 
बुद्ध की तरह। 
----------------------------------------------
तो जीवन की पराकाष्ठा  बुद्ध हो जाना है ?

रियली वी मिस यू इटली इन रशिया

                           रियली वी मिस यू इटली इन रशिया   'द आर्किटेक्ट' के नाम से प्रसिद्द इटली के आंद्रे पिरलो दुनिय...