Saturday, 30 November 2013

कलंक गाथा







                              तेजपाल प्रकरण से अब सारा हिंदुस्तान अवगत हो चुका है। तहलका पत्रिका ने नवंबर में गोआ में एक अंतरराष्ट्रीय महोत्सव थिंक फेस्ट आयोजित किया। इस आयोजन के दौरान पत्रिका के एडिटर इन चीफ और प्रख्यात पत्रकार ( अब कुख्यात ) तरुण तेजपाल ने अपनी सहयोगी पत्रकार का यौन उत्पीड़न किया। और ऐसा उन्होंने एक बार नहीं दो दिन किया। वो पत्रकार उनकी बेटी की उम्र की, उनकी बेटी की दोस्त और खुद उनके मित्र की बेटी है।
                              पहले मामले को उन्होंने अपने आप समेटने की कोशिश की।पीड़ित महिला पत्रकार को इस नसीहत के साथ कि 'ये नौकरी चलाने का सबसे आसान तरीका है' जब लड़की ने हिम्मत जुटाई और इस सम्बन्ध में पत्रिका की मैनेजिंग एडिटर शोमा चौधरी को मेल भेज कर घटना की सारी जानकारी दी। उन्होने इस मामले को पत्रिका के अंदर दबाने की कोशिश की। लेकिन जब जानकारी लीक हो गयी तो मामले को दूसरी तरीके से निपटाने की कोशिश की गयी। तेजपाल ने कहा कि उन्होंने पीड़िता से बिना शर्त माफी मांग ली है और प्रायश्चित करने के लिए अपने पद से 6 माह के लिए हट गए। इसे पत्रिका अन्दुरुनी मामला बताया गया। 
                                इस केस की सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि तेजपाल महोदय ने स्वयं को दोषी मानते हुए खुद को सजा भी दे डाली। उनकी इस अदा पर तमाम लोग फ़िदा हो गए और इसे साहसिक कदम बताया जाने लगा। पर मामला और तूल  पकड़ता गया। तब इसे बी जे पी का षड़यंत्र बताया जाने लगा ,कुछ ने उनके पुराने कार्यो का वास्ता दिया। एक महोदय ने पीड़िता की तुलना मोनिका लेविंस्की तक से कर दी। जब और आगे बात बढ़ी तो तेजपाल महोदय ने आरोप  को झूठा बता दिया। जिन महाशय ने पहले अपना अपराध मानते हुए खुद को सजा देने की घोषणा कर दी थी अब वो उस पापकर्म को बेशर्मी से नकार रहा है। इससे हास्यास्पद और क्या हो सकता है। यहाँ पर फेसबुक पर तेजपाल के बचाव में दिए कुछ टीप प्रस्तुत हैं। उल्लेखनीय है कि  ये सब बड़े और समाज के सम्मानित लोगों की टीप हैं तथा ऐसी और भी बहुत सी टीप होंगी …
                            1.   ".... yes, the question stands.but the lady journalist has still not filed any fir.we will talk of her when it comes up.but what makes those enthusiasts go out of their body to get tejpal arrested --isn't it a politico-communal design?
                            2. "… but I still feel that the fall of an angel should not be equated with the habitual acts of any devil." 
                           3. "..Think about a scientist, working 40 years in a laboratory, in absolute confinement, forgetting food, family, pleasures ..just to find a cure of a fatal decease, killing millions of people....think of those long fourty fifty years ...and one day, in fraction of moment...in a spurt of impulses he commits something wrong....and he admits it, confessing it in public....will you all erase all those contributions..
                            4 " ...."क्या आप अपना पक्ष तय कर चुके हैं ? मुझे याद आता है कारंत जी के साथ घटी घटना. जब आप सब लोग उनको फ़ांसी दिलाने के पक्ष में थे..शायद मैं अकेला था जब 'दिनमान' में उस घटना के विवेकपूर्ण, संयत और न्यायिक तरीके से देखने के पक्ष में लिखा था"
                                पिछले दिसम्बर में राजधानी दिल्ली में निर्भया काण्ड हुआ  था। पूरा देश आंदोलित हुआ। वो एक गंभीर अपराध था। हालांकि तेजपाल काण्ड की तुलना करना बेमानी है, पर इस मामले को उसके परिप्रेक्ष्य में देखने की कोशिश की जा सकती है क्योंकि ये दोनों ही मामले नारी के यौन उत्पीड़न से जुड़े हैं। ये सही है इस मामले में दरिंदगी उस हद तक नही हुई है पर कुछ मायने में ये उससे ज्यादा गम्भीर अपराध भी है और गम्भीर निहितार्थ लिए हुए है 
                         निर्भया कांड के दोषियों की पृष्ठभूमि देखिये तो पता चलेगा कि सारे अपराधी निम्न मध्य वर्ग के थे ,कम पढ़े लिखे थे ,अपने घरों से दूर जीविका अर्जित करने आये थे ,उनकी अपनी कुंठाए रही होंगी। उन्होंने एक अनजान लड़की को देखा और उसके साथ घोर निंदनीय दरिंदगी कर डाली। ऐसा अपराध जिसके लिए मृत्यु दंड भी छोटा लगने लगा। 
                           इसके विपरीत तेजपाल समाज के सबसे सपन्न और प्रबुद्ध वर्ग से आते है। समाज इनसे न केवल नेतृत्व की अपेक्षा करता है बल्कि अपेक्षा करता है कि वे समाज के सामने आदर्श प्रस्तुत कर मार्गदर्शन भी करेंगे।ये वो वर्ग है जिसे हर तरह की सुविधाएँ उपलब्ध है ,ऐशो आराम से रहते है। निश्चय ही तेजपाल का मन किन्ही चिंताओं से कुंठित नहीं रहा होगा और उन्होंने जो कुछ भी किया वो सोच समझ कर किया। उन्होंने स्वीकार भी किया है कि 'उनका कृत्य परिस्थितियों का गलत मूल्यांकन था'। यानि जो किया सोच समझ कर  किया और सोच समझ कर किया जाने वाला अपराध अचानक हो जाने वाले अपराध से बड़ा होता है। इस दृष्टि से तेजपाल का कृत्य  एक बड़ा अपराध है और संपन्न वर्ग के आदर्शो से च्युत होने की कलंक गाथा है। 
                              वे पढ़े लिखे बुद्धिजीवी वर्ग से आते हैं। बुद्धिजीवी वर्ग ही अपने ज्ञान के प्रकाश से समाज का मार्गदर्शन करता है। उनसे सबसे ज्यादा विवेकवान  होने की अपेक्षा की जाती है। उनसे हर कार्य विवेकसम्मत तरीके से करने की भी अपेक्षा की  जाती है।ऐसे में उनका अपराध कम पढ़े लिखे विवेकहीन लोगों की तुलना में अधिक बड़ा है। और उनका कृत्य बुद्धिजीवी वर्ग की प्रतिष्ठा को धूल धुसरित करने की कलंक गाथा है। 
                                    वे पत्रकार थे। पत्रकारिता के शिखर पर थे। पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ माना जाता है। पत्रकार की समाज में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उससे अपेक्षा होती है कि समाज में और विशेष रूप से महिलाओं पर हो रहे अन्याय, अनाचार, अत्याचार के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद करेगा। इसके विपरीत तेजपाल का अपने साथी पत्रकार के साथ ये कृत्य पत्रकारिता पेशे के उसूलों को बदनाम करने की कलंक गाथा है। 
                               उन्होंने जिस लड़की के साथ ये कृत्य किया वो कोई अनजान नहीं थी। उनकी माहतत कर्मचारी थी,उनकी साथी पत्रकार थी,उनके द्वारा सेवायोजित थी। सेवायोजकों का कर्त्तव्य है वो ना केवल अपने कर्मचारियों से बेहतर सम्बन्ध बनाए बल्कि उसके हितो की रक्षा भी करे। इस तरह से तेजपाल का ये कृत्य सेवायोजकों के मूल्यो से विचलन की कलंक गाथा है। 
                                    वो लड़की उनके अपने साथी और दोस्त की बेटी थी। वो दोस्त अब इस दुनिया में नहीं है। ऐसे में तेजपाल का ये गुरुतर दायित्व बनाता था कि वो उसकी हर तरीके से रक्षा करे। उसे हर मुसीबत से बचाये। लेकिन उसने अपनी बेटी की उम्र की उस लड़की का बेजाँ फ़ायदा उठाना चाहा। इस दृष्टि से उसका ये कृत्य दोस्ती को कलंकित करने की कलंक गाथा है।
                            वो लड़की केवल तेजपाल के दोस्त की बेटी ही नहीं थी बल्कि उसकी खुद की बेटी की भी दोस्त थी। वो बचपन से उसकी बेटी के साथ रहती आयी थी। उसके दोस्त की बेटी और उसकी बेटी की दोस्त और उसकी हमउम्र होने के कारण उसकी बेटी की तरह थी। इस दृस्टि से उसका कृत्य स्थापित बाप बेटी के पवित्र रिश्ते को बदनाम करने की कलंक गाथा है।  
                                 दरअस्ल ये इस बात कि अभिव्यक्ति है कि समाज के सुविधा संपन्न वर्ग के लिए, शीर्ष पर बैठे सत्ता और अधिकारों से लैस मुट्ठी भर लोगों के लिए उनकी अपनी इच्छा,अपनी सनक ही क़ानून है। वे जब चाहे जो चाहे कर सकते हैं।विधि स्थापित क़ानून सिर्फ आम आदमी के लिए हैं। वे स्वयं क़ानून से ऊपर है।असल में ये लोकतंत्र नहीं कुछ प्रभावशाली लोगों का उनके अपने हितो को साधने का तंत्र है और इस तंत्र में ऐसी कलंक गाथाओं से आपका वास्ता पड़ता ही रहेगा !!!  

एक अनिर्णीत संघर्ष जारी है

एक अनिर्णीत संघर्ष जारी है  यकीन मानिए बैडमिंटन चीन और इंडोनेशिया के बिना भी उतना ही रोमांचक और शानदार हो सकता है जितना उनके रहते...